Tuesday, July 5, 2011

जो तू समझे तो मोती है


आज सुबह सुबह मौसम बहुत गरम गरम सा लग रहा था 
अभी कुछ देर पहले मौसम का मिजाज बदल गया तो हमने भी अपना 
मिजाज बदल लिया है ................

मोहबत्त  एक एहसासों की पावन सी कहानी है,,,
कभी कबीरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है  |
यहाँ सब लोग कहते है ,,मेरी आखो में आँसू है,,,
जो तू समझे तो मोती है ,, जो न  समझे तो पानी है |

जय बाबा बनारस.......................

9 comments:

  1. जय बाबा बनारस हम तो अभी भी जाम में है..
    गाड़ी में लैपटॉप आन कर के कमेन्ट करने बैठ गए..

    ये मौसम तो कातिलाना हो गया..मगर अगल बगल में ट्रक फसे हैं जाम में..तो आशिकी तो होने से रही

    ReplyDelete
  2. bahut sundar pandit ji kya baat kahi hai ...abhaar

    ReplyDelete
  3. यहाँ की बरसात में हर साल वही मोती पानी बन बरसते हैं।

    ReplyDelete
  4. कुमार विश्वास का यह गीत बहुत अच्छा लगता है। बदला मिजाज मुबारक हो मिश्रा जी।

    ReplyDelete
  5. वाह क्या बात कही।सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  6. उम्दा सोच
    भावमय करते शब्‍दों के साथ गजब का लेखन ...आभार ।

    ReplyDelete