Wednesday, April 27, 2011

आज की नारी समाज पर भारी ..........

नारी ही नारी दुश्मन यह बात सर्वथा सत्य है अब यह कथन कुछ लोगो को नागवार गुजर सकता है की नारी नारी की दुश्मन कैसे हो सकती है? कर्कशा नारी क्या आप सब को प्रिय लगती है ?

एक सुंदर सी बात आप को बताते है  - जब आप की शादी किसी नारी (जाहिर है) से होती है और आपके घर में  उसका आना होता है तब सब लोग उसका सम्मान करते है. कुछ समय के बाद वही नारी आपकी माँ, बहन, दादी व बुआ इत्यादि का वर्णन आप के सामने ऐसे करती है की - ताउम्र का प्यार मिनट में भुला कर आप पुरे परिवार के दुश्मन हो जाते हो. 

और कुछ समय के बाद आप को एकाकी देख कर आपके उपर अधिकार जताती है व ऐसे परिस्तिती बना देती है की आप उन नारी (धर्मपत्नी) या फिर अपने परिवार में से एक को चुनना पढता है. उस पर भी तुर्रा ये की यह  अब आप क्या कर सकते है. मरता क्या न करता - घर परिवार से बहार - जो कमाओ उसी नारी को दिए जाओ. और वो आपको लेकर अपने मायके में मस्त..... कुछ खरीदना है तो साली सासू या फिर साले के लिए खरीदों नहीं तो रात को खाना बहार खाओ और दारू पीकर गलियों में भटको.

अत: परिणाम यही है :
मोडर्न नारी - पुरे समाज पर भारी 
यह है आज की सबसे बड़ी बीमारी

नर और नारी के बिना सृष्टि अधूरी है..... खुद महादेव ने अर्धनारिएश्वर का रूप धर का मानव जाती को चेताया है.... और काली मैया के आगे तो नत मस्तक हुए है. बेचारे समझ गए होंगे - आज के नर की क्या औकात जो इनको आँखे दिखाए........

ये भी सत्य है की आदमी के अंदर नारी के १०% गुण आ जाए तो आदमी देवता तुल्य हो जाता है  और नारी के अंदर १०% गुण  आदमी के हो जाये तो वह डायन हो जाती है कुलटा  हो जाती है. 

भारत में नारी सदा से सम्मान  की पात्र रही है इतिहास  इस बात का गवाह रहा है , परन्तु आजकल मोडर्न ज़माने में औरत नारी के आजादी के नाम पर बस कुतर्क करना जानती है - उसमे रचनात्मक शक्ति का ह्रास होता जा रहा है. 

क्या यह कथन सत्य है ?
जय बाबा बनारस 

7 comments:

  1. मोडर्न नारी - पुरे समाज पर भारी
    यह है आज की सबसे बड़ी बीमारी

    का पंडित जी, इ दिव्या ज्ञान कब प्राप्त हुआ.......... कौनो बाबा तो सपने में नहीं आये......... रति खाना वाना तो खाए रहे . चलिए जो भी है - अब जरा सर बचा कर चलना - नारीवादी ब्लोग्गर से बच कर रहना, अपने हो राय दे सकते है - हेलमेट नहीं.

    ReplyDelete
  2. e sab ki sab rakhi sawant,mallika brand ,hai in se kiya bachana ....

    jai baba banaras....

    ReplyDelete
  3. ये भी सत्य है की आदमी के अंदर नारी के १०% गुण आ जाए तो आदमी देवता तुल्य हो जाता है देवता बनने के लिए नारी का गुण समझ में नहीं आया !!!!

    ReplyDelete
  4. मोडर्न जमाने की पूनम-प्रजाति की नारियों के एक्को पर्सेन्ट गुण न आयें, नहीं तो दुनिया में ......नरकै-नरक !

    पर कुछ दिक्कतें तो हैं ही >>
    http://amrendrablog.blogspot.com/2011/04/blog-post.html

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. अब नारी का १०% आ गया तो क्या शर्ट निकलकर चोली पहिन ले..
    वो तो यही कर रही हैं हमारा कपडा पहन कर माडर्न बन रही है..आरे अरे गलती हो गइल उ ता कपडे उतार के खड़ा बड़ी ..
    अब हमहूँ आपन उतार दे ता के देखि पुरबिया भाई तू...
    कलही से नागा बाबा बनी के धुनी राम दे तानी तुहरे आफिस के सामने

    ReplyDelete