Wednesday, November 24, 2010

टिपण्णी एक नशा है इस से कोइए भी नहीं बचा

tippanni का दलदल एक ऐसा दलदल है ,
एक ऐसे खुसबू है जो हर आदमी पाना चाहते है
जैसे शादी का लड्डू जो खई वोह जाने
और जो न खिए उ खाना चैहे
उसी तरह से यह तिपनी का है
किसी को बिने ताम झाम के बहुत मिल जाती है
और किसी को बहुत कुछ करने के बाद एक थो मिलती है
भाई नसा बहुत तरह का होता है
किसी को बीडी का ,किसी को सिगरेट का ,किसी को तम्बाकू का ,
किसी को अफीम का ,किसी को भंग का ,किसी को सोमरस का ,
ब्लॉगर को सिर्फ एक नसा होता है तिप्पद्दी देने का ,
और अपने लिखे पर टिपण्णी आने का इन्तिज़ार होता है
आप लोगो के vichar saadar amantratit है

13 comments:

  1. लीजिये हम भी टिप्पणया दिये.. यूंही..

    ReplyDelete
  2. खाने मे जैसे नमक
    वैसे लेख के साथ टिप्पणी
    डोल के साथ जैसे डंडा
    वैसे लेख के साथ टिप्पणी
    सही कहा आपने
    बस कुछ जगह पर शब्दों में सुधार कर दीजिये तो लेख में चार चाँद लग जायें । जैसे तिप्पद्दी .. हाँ अगर यह पुरबिया भाषा में लिखा गया हो तो मुझे माफ करें ।

    ReplyDelete
  3. लेकिन कुछ लोग ऐसे भी है जो पोस्ट पढ जाते है लेकिन टिप्पणी दंेने की हिमाकत नही करते ।

    ReplyDelete
  4. 5 comments:
    अपर्णा "पलाश" said...
    This post has been removed by the author.
    November 24, 2010 8:20 AM
    भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...
    लीजिये हम भी टिप्पणया दिये.. यूंही..

    November 24, 2010 8:22 AM
    अपर्णा "पलाश" said...
    खाने मे जैसे नमक
    वैसे लेख के साथ टिप्पणी
    डोल के साथ जैसे डंडा
    वैसे लेख के साथ टिप्पणी
    सही कहा आपने

    ReplyDelete
  5. लेकिन कुछ लोग ऐसे भी है जो पोस्ट पढ जाते है लेकिन टिप्पणी दंेने की हिमाकत नही करते ।
    sahi kah rahe ho deepak ji.
    lagata hai jaise incoming ka charge hai.

    ReplyDelete
  6. बहुते बुरा नशा है...का करियेगा मगर!! नशा तो हैये है.

    ReplyDelete
  7. नशा आप कह रहे हैं
    पर इसी में तो
    ब्‍लॉग की शान है
    पोस्‍ट की पहचान है
    मान न मान
    टिप्‍पणी एक मेहमान है
    बहुत चिंतित है ब्लु लाइन बसे

    ऊंट घोड़े अमेरिका जा रहे हैं हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग सीखने

    ReplyDelete
  8. जिस प्रकार शरीर को भोजन चाहता है उसी प्रकार लेख को टिप्पणी
    समझे भई
    dabirnews.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. जी सही है... नशा तो है... या कहें इसमें गज़ब का आकर्षण है... चाहो न चाहो, इसकी ओर अपने आप आकर्षित हो जाते हैं सब...

    ReplyDelete
  10. लो जी, एक ठो टीप दे रहे हैं...... आपका नशा थोडा शांत हो....

    ReplyDelete
  11. कौन भला रोक सकेगा अपने को टिप्‍पणी करने से, आपकी यह पोस्‍ट पढ़कर.

    ReplyDelete