Saturday, November 27, 2010

परदेसी की वापसी

जब एक परदेसी की अपने वतन की वापसी होती है उसके दिल में बहुत अरमान होते है
परदेसी को अपने वतन अपने गाँव अपने देश की मिटटी की खुसबू की याद आती है कभी वो याद कर के हँसता है कभी कुछ याद करके अपने आख को नम करता है परदेसी का दिल अपनों से मिलाने को तडफता है ,सबकी याद एक एक करके आती है ,और जब उस दौरान गाड़ी किसी कारन से देर होती है एक एक मिनट एक एक साल के बराबर लगता है
गाँव में सबको उसका बहुत इंतजार है, किसी के लिए रिमोट वाली कार लाया हूं तो किसी के लिए कैमरा... पूरे तीन साल बाद जो आ रहा हूं। तीन साल बाद क्यों आ रहे हो, पहले क्यों नहीं आए, यह पूछने पर वह बोला, बार-बार आऊंगा तो दिन रात काम करके जो पैसे बचाएं हैं वह टिकट पर ही खर्च हो जाएंगे। गांव में मकान पक्का करना है, बड़ा टीवी लगाना है, तीन जवान बहनें हैं जिनकी शादी भी करनी है। मुझे हिंदी फिल्मों के सीन याद आने लगे, बिल्कुल हीरो की तरह। उसकी लाइफ में भी इतना ही थ्रिल होता है।
परदेसी पुरे गाँव का एक हीरो होता है सबको उसका इन्तिज़ार होता है और परदेसी को अपनों का इन्तिज़ार होता है।
क्या आप परदेसी है ???????????????????

18 comments:

  1. जी हाँ ! मैं भी अपने वतन (वाराणसी) जा रहा हूँ पता नहीं इंतजार कितना है

    ReplyDelete
  2. हमरा परदेसी अनिलवा (इंकमैंन) भी गाँव गया है.... अभी तक नहीं आया ...... और उ सब है जो आप लिख रहे हैं...

    परदेसी के वापसी की भी इन्तेज़ार होती है ?

    ReplyDelete
  3. और हाँ, आज पोस्ट बढिया लिखे हो मिसर जी, आईसी ही पोस्ट की अपेक्षा है आपसे.

    साधुवाद

    ReplyDelete
  4. sach mein bahut achha lagta hain jab gaon mein aatmiyta se log haal-chaal puchhte hai... aur ham unke haal samachar jaante hai... kayee sukh-dukh kee ghadiya chalchitra kee tarah saamne aati-jaati hai..
    bahut achha laga aapka aalekh.. gaon kee yaad yun to aati rahti hain lekin aisa kuch padh-sun lete hain to aur bhi aane lagti hai....

    ReplyDelete
  5. bhai verma ji aap ki yatra subh ho.

    jai ho baba ji ki kisi ka gam koi aur hi likh sakata hai.

    ReplyDelete
  6. kavita ji koie bas apno ki baat kar le yahi good feel deta hai.

    surinder ji bhawana main aadmi pata nahi kiya kiya kar jata hai.yeh sab bhawuk man ki dastan hai.

    ReplyDelete
  7. जड़े हमे हमेशा अपनी ओर खींचती है और हम उनसे कभी अलग नही हो सकते ।

    ReplyDelete
  8. अपने वतन की खबर ही अंदर तक प्रफुल्लित कर देती है. अपने वतन को लौटने के समय जो ह्रदय में उल्हास और अपनों से मिलने की जो विव्हलता होती है उसका बहुत सुन्दर चित्रण...

    ReplyDelete
  9. अपने घर की याद इस पोस्ट जरिये हमने भी ताजा कर ली...... बहुत ही सुंदर पोस्ट .

    ReplyDelete
  10. हम सभी परदेसी हैं मिश्रा जी। अपनी जमीं से दूर। बहुत अच्छा लिखा है आपने।

    ReplyDelete
  11. वाह! बहुत संवेदनशील राचना।

    ReplyDelete
  12. मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  13. दिल को छू लेने वाली अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  14. ब्‍लॉग्‍स की दुनिया में मैं आपका खैरकदम करता हूं, जो पहले आ गए उनको भी सलाम और जो मेरी तरह देर कर गए उनका भी देर से लेकिन दुरूस्‍त स्‍वागत। मैंने बनाया है रफटफ स्‍टॉक, जहां कुछ काम का है कुछ नाम का पर सब मुफत का और सब लुत्‍फ का, यहां आपको तकनीक की तमाशा भी मिलेगा और अदब की गहराई भी। आइए, देखिए और यह छोटी सी कोशिश अच्‍छी लगे तो आते भी रहिएगा


    http://ruftufstock.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. गांव बुलाता है....

    ReplyDelete
  16. आपका लेख दिल को छु गया ... हम भी परदेसी ही हैं .. :(

    ReplyDelete
  17. बिल्कुल सही फरमाया आपने...हुज़ूर!

    ReplyDelete