Tuesday, May 31, 2011

अब बेठ के खाओ हलवा पूरी........


पहला पहला प्यार है आज अचानक यह गाना दिमाग मैं चल गया इस के साथ ही दिमाग मैं कुछ कुछ चलने लगा .
आज कुछ इसे पर ही लिख दिया जाये पहला पहला पहला .........

प्रथम की महिमा ही कुछ और होती है पहला कदम ,पहला प्यार ,पहला स्कूल,पहली मुलाकात,पहला ब्लॉग,
पहली टिप्पड़ी ,पहला फल्लोवर,पहला विवादित लेखा ब्लॉग जगत मैं बहुत कीमत रखता है कुछ लोग लिखते रहते है कुछ लोग सिर्फ पढ़ते रहते है कुछ समय के बाद लिखने वाला ब्लॉगर लिखना कम कर देते है और पढ़ने वाला क्या ख़ाक पढ़ेगा कुछ दिन के बबाद वह ब्लॉग खोलना बंद कर देता है और हो जाती ब्लॉग की तमन्ना पूरी 

अब बेठ के खाओ हलवा पूरी........

जय बाबा बनारस.......

7 comments:

  1. प्रथम और प्रियतम दोनों ही रोचक हैं, यदि प्रथम प्रियतम हो..

    ReplyDelete
  2. आज बड़े झल्लाए लगा रहे हो कौशल भाई !
    हलवा पूरी खाने जाओ तो दोस्तों को नहीं भूल जाना !
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. जय हो बाबा बनारस ..
    पहला पहला प्यार ..पहला पहला फालोवेर...
    कौन(???) ....
    मुझे लगता है ..
    आप गुनगुना रहे हैं...
    की आजा तेरी याद आई ओ बालम हरजाई..
    .
    हवाई जहाज के भडवा बढ़ी गिल बा औरी बीजा मिल्लेहू में बड़ा पैसा लागत बा..
    एगो काम कर गीता पढ़ी ला शांति मिली जाई...

    ReplyDelete
  4. पहला पहला प्यार है....

    ReplyDelete
  5. bahut achchhe kaushal kishor ji
    aapke blog par pahli bar
    aakar kee pahli tippani
    aur vah khushi mili jo
    pahle kabhi nahi mili.aabhar.

    ReplyDelete