Friday, November 8, 2013

धर्मनिरपेक्षता तथा सहिष्णुता

कुछ अनुत्तरित सवाल दिमाग में चलते रहे.... और, मन को परेशान करते रहे....! फिर भी..... अंत तक मैं ये समझ नहीं पाया कि.....
 आखिर क्यों सिर्फ हम हिन्दुओ को ही ....सेक्युलर बनने के लिए दबाब डाला जाता है ....एवं, सर्वधर्म समभाव का भोंडा पाठ पढ़ाया जाता है....???
 और आखिर क्यों..... कोई भी राजनीतिक पार्टी अथवा मिडिया मुसलमानों को सेक्युलर बनने के लिए पूछते तक नहीं हैं ....?????

 आखिर ऐसा क्या कारण है कि..... हमारे हिन्दू धर्म स्थलों से टैक्स लिया जाता है ... जबकि, मस्जिद , दरगाहों इत्यादि में मुफ्त बिजली एवं पानी ... दान के तौर पर दे दिया जाता है .....???
 और तो और.... आश्चर्य तो इस बात का है कि.....जब हिन्दूओ को हमारे धार्मिक यात्राओं के लिए कुछ नहीं मिलता ...... तो बददिमाग मुस्लिमो को हज के लिए 25000 रूपए आखिर किस ख़ुशी में दे दिए जाते है .......
. क्या पैसा सरकार में बैठे मंत्रियों की बपौती संपत्ति है ...... जिसे वे जैसे भी चाहें .... उड़ा दें....?????
 ऐसा भी क्या कष्ट है कि....... एक तरफ तो विकास के नाम पर हम हिंदुओं के गौशालाओ की जमीने छीन ली जाती है ..
 जबकि कटुओं के मस्जिदों के लिए मुफ्त में जमीने दे दी जाती है........??? ??
 हद तो ये है कि.... हमारे ही हिंदुस्तान में धर्मनिरपेक्षता के नाम पर............. एक तरफ तो मंदिरों की घंटिया बंद करवाई जाती है .......
 वहीँ दूसरी तरफ मस्जिदों में खुलेआम ... दिन के पांच समय माइक पर "मुर्गा बांग" चलने दिया जाता है ....??????
 सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि.... हमारे हिन्दू अभियानों तथा पवित्र कोशी यात्राएँ रोकी जाती है जबकि.... मुस्लिमों के जुलूस एवं ताज़िए को रोकने की जगह उन्हें पुलिसिया सुरक्षा मुहैया करवा दी जाती है...!

 यहाँ तक कि..... हम हिंदुओं के ही टैक्स के पैसे से मुस्लिमों के हाथ में लैपटॉप थमाए जाते हैं ... जबकि, हम हिन्दुओ के हाथ खाली रखे जाते है ...!
 उस से भी आगे कि.....

 सभी राजनीतिक पार्टियों एवं मिडिया द्वारा हम हिन्दुओ एवं हमारी धार्मिक भावना को नजरअंदाज़ करते हुए हमारी आस्थाओ पर सवाल किये जाते है... और, हमें तरह-तरह की नसीहतें दी जाती हैं जबकि..... मुस्लिमो के हर पाखंड तथा हैवानियत पर आश्चर्यजनक चुप्पी रखी जाती है ...?????

 उपरोक्त बातें तो सिर्फ एक नमूना है ... जो हम हिंदुओं को बहुत सारी बातें सोचने तथा ...... हमें उग्र रवैया अपनाने को विवश करती है....!

 साथ ही ये भी कटु सत्य है कि.... अगर हम हिन्दू ....  धर्मनिरपेक्षता तथा सहिष्णुता के चादर में यूँ ही छुपाये रहे तो..... वो दिन दूर नहीं.... जब हम हिन्दू अपने ही हिंदुस्तान में .... दोयम दर्जे के नागरिक एवं मुस्लिमों के पैर की जूती बना दिए जायेंगे....!

 इसीलिए .... जागो हिंदुओं और अपने हक़ के लिए दहाडो.... ताकि तुम्हारी दहाड़ सुनकर ही दुश्मनों का दिल दहल जाए...!!

जय बाबा बनारस .....

2 comments:

  1. बहुत उचित बातें उठाई हैं आपने, हृदयतल से बधाई स्वीकारें।

    http://hindu0007.blogspot.in/

    ReplyDelete